कर्रेंट अफेयर्स हर साल 16 मई को विश्व कृषि-पर्यटन दिवस (World Agri-Tourism Day) मनाया जाता है।

कृषि पर्यटन क्या है?

कृषि-पर्यटन में शहरी पर्यटक किसानों के घर में रहते हैं। अपने प्रवास के दौरान वे खेती की गतिविधियों, ट्रैक्टर की सवारी, बैलगाड़ी की सवारी में संलग्न होते हैं। इसके अलावा, वे लोक गीतों और नृत्यों का आनंद लेते हैं। वे ताजा कृषि उपज खरीदते हैं।

बदले में, किसान पर्यटकों को आवास प्रदान करते हैं और उनके प्रवास के दौरान उनका मनोरंजन करते हैं। यह किसानों के लिए एक अतिरिक्त आय के रूप में कार्य करता है। साथ ही, यह स्थानीय युवाओं को टूरिस्ट गाइड के रूप में नियुक्त करता है। इस तरह यह कार्यक्रम रोजगार के अवसर भी प्रदान करता है।

सर्वेक्षण

कृषि पर्यटन विकास निगम (Agriculture Tourism Development Corporation) के सर्वेक्षण में कहा गया है कि लगभग 0.56 मिलियन पर्यटकों ने कृषि-पर्यटन केंद्रों का दौरा किया। यह 2019 में बढ़कर 0.61 मिलियन और 2020 में 0.78 मिलियन हो गया है।

पृष्ठभूमि

  • महाराष्ट्र देश में कृषि-पर्यटन को विकसित और बढ़ावा देने वाला अग्रणी राज्य है।
  • सितंबर 2020 में, महाराष्ट्र ने कृषि-पर्यटन नीति (Agro-Tourism policy) पारित की।इसका उद्देश्य पर्यटकों को खेती का आनंद प्रदान करना और किसानों की आय बढ़ाने में मदद करना है।