छत्तीसगढ़ में मराठा शासन व्यवस्था । मराठा कालीन छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में मराठा शासन – Chhattisgarh me maratha sashan

छत्तीसगढ़ में मराठा शासन

छत्तीसगढ़ में मराठा शासन – ( 1741 – 1818 ई.) तक –

  • भोंसला आक्रमण के समय  हैहय शासन की दशा –
  • आरंभिक हैहय शासक योग्य थे,  किन्तु 19 वीं शताब्दी के प्रमार्ध में उनका गौरव विलुप्त हो चूका था,
  • इस समय रतनपुर व रायपुर शाखा के तत्कालीन शासको क्रमशः रघुनाथ सिंह व अमरसिंह नितांत शक्तिहीन थे, उनमे महत्वकांक्षा का अभाव था,
  • हैहय राज्य का संगठन दोषपूर्ण था,
  • केंद्र में दृढ़ सेना का अभाव था,
  • हैहय सरकार की आर्थिक दृष्टि से दिवालिया निकल चुकी थी,
  • जनता पर कर का भार अधिक था,

जेकिंस के अनुसार —  राज्य के अधिकांश भागो का विभाजन राज परिवार के सदस्यों व् अधिकारियो के बिच हो गया था, जिससे केन्द्रीय शक्ति कमजोर हो चुकी थी,

रघुजी भोसले – ( 1741 – 1758 ई. )

  • इसने अप्रत्यक्ष शासन किया था,
  • नागपुर के भोसले वंश के शासक रघुजी भोसले के सेनापति भास्कर पन्त ने दक्षिण भारत अभियान के समय 1741 में रतनपुर पर अपना कब्जा ज़माने का प्रयास किया,
  • इस समय रतनपुर का शासक रघुनाथ सिंह था,
  • रघुनाथ सिंह को पराजित कर, भास्कर पन्त ने रतनपुर पर कब्जा कर लिया, किन्तु   प्रारम्भ में  मराठा  प्रतिनिधि के रूप में रघुनाथ सिंह को शासन करने दिया गया,
  • 1745 ई. में रघुनाथ सिंह की मृत्यु के बाद मोहनसिंह को शासक नियुक्त किया गया,
  • 1758 ई. में मोहनसिंह की मृत्यु के बाद रघुजी भोंसले के पुत्र बिम्बाजी भोंसले ने रतनपुर में प्रत्यक्ष शासन किया था,

छ.ग. में मराठा शासन को 4 चरणों में बांट सकते है,

  • प्रत्यक्ष भोसला शासन (1758 – 1787 ई.)
  • सूबा शासन (1787 – 1818)
  • ब्रिटिश शासन के अधीन मराठा शासन (1818 – 1830)
  • पुनः भोंसला शासन (1830 – 1854)

1. प्रत्यक्ष भोंसला शासन — 

   बिम्बाजी भोंसले – (1758 – 1787 ई.)

  • 1750 ई. में इसने रायपुर की काल्चुरी शाखा के शासक  अमरसिंह को परास्त किया, और 1757 तक  पुरे क्षेत्र में अपना अधिकार जमा लिया,
  • कलचुरी वंश का अंत हुआ, और मराठा शासन स्थापित हुआ,
  • 1758 में मोहन सिंह की मृत्यु के बाद बिम्बाजी भोंसले ने इस क्षेत्र में प्रत्यक्ष शासन किया था,
  • छ.ग. के पहले स्वतंत्र मराठा शासक थे जिसने रतनपुर में प्रत्यक्ष शासन किया था,
  • इसने रायपुर व रतनपुर इकाई को प्रशासनिक रूप से एक किया
  • परगना पध्दति के सूत्रधार ( नीव रखी थी ) थे ,
  • इसकी स्वतंत्र सेना थी, तथा इनका शासन जनहितकारीथा, एवं राजा की भाति स्वतन्त्र दरबार का आयोजन करते थे,
  • बिम्बाजी लोकप्रिय शासक थे,
  • न्याय सम्बन्धी सुविधाओं के लिए उनके द्वारा रतनपुर नियमित न्यायालय की स्थापना की गई,
  • राजस्व का कोई भी हिस्सा नागपुर नही भेजते थे,
  • जमींदारो से होने वाले संधि पत्र पर वे स्वयं हस्ताक्षर करते थे,
  • नई जमींदारी खुज्जी व राजनादगांव की शुरुवात की,
  • मराठी, उर्दू, और मुड़ी भाषा का प्रयोग शुरू करवाया, ( मुड़ी – लिपि भी है )
  • रामटेकरी में भव्य राममंदिर का निर्माण रतनपुर में करवाया,
  • दशहरा के अवसर पर स्वर्ण पत्र देने की परंपरा की शुरुवात की,
  • छत्तीसगढ़ राज्य की संज्ञा दी,
  • राजस्व सम्बन्धी लेखा तैयार करवाकर राजस्व की स्थिति को व्यावस्थित किया,
  • भवन निर्माण, कला, संगीत, का साहित्य विकास हुआ,
  • रायपुर का प्रसिध्द दुधाधारी मंदिर इनके सहयोग से ही बनवाया गया था,
  • बिम्बाजी में सैनिक गुणों का अभाव था, अतः साम्राज्य विस्तार का प्रयास नही किया,
  • इन्होने धार्मिक कट्टरता का परिचय नही दिया,
  • इनके साथ ही मराठा, व मुसलमान छ.ग. में आये थे,
  • इनकी पत्नी का नाम उमा बाई था, जो 1787 में इनकी मृत्यु के साथ सती हो गई,
  • इनकी मृत्यु के समय में यूरोपीय यात्री कोलब्रुक छ.ग. आये थे,
  • कोलब्रुक ने अपनी किताब में लिखा है की — बिम्बाजी की मृत्यु से छ.ग. की जनता को सदमा पंहुचा था, क्यूंकि उनका शासन जनहितकारी था, वह जनता का शुभचिंतक व उनके प्रति सहानुभूति रखने वाला था,

2. सूबा शासन – (1787 – 1818)

    व्यंकोजी भोंसले — (1787 – 1815) 

  • 1787 में बिम्बाजी भोंसले की मृत्यु के बाद इसने शासन किया
  • इसने छ.ग. में प्रत्यक्ष शासन नही किया, नागपुर में रहकर छ.ग. का शासन संचालन किया,
  • इसके परिणामस्वरूप नागपुर छ.ग. की राजनितिक गतिविधियों का केंद्र बन गया, जिससे रतनपुर का राजनैतिक वैभव धूमिल होने लगा था,
  • इसने सूबा शासन ( सुबेदारी पध्दति ) की शुरुवात की,
  • सूबा शासन प्रणाली मराठो की उपनिवेशवादी निति का अंग थी,
  • जिसे सूबा सर्कार की संज्ञा दी गई थी,
  • सूबेदार रतनपुर के मुख्यालय में रहकर शासन का संचालन करते थे,
  • सूबेदारों की नियुक्ति ना तो स्थाई थी, और न ही वंशानुगत थी,
  • सूबेदारों की नियुक्ति ठेकेदारी प्रथा के अनुसार होती थी,
  • यह पध्दति 1818 ई. तक छ.ग. के ब्रिटिश नियंत्रण में आने तक विधमान रही,
  • इस दौरान व्यांकोजी का तीन बार छ.ग. में आगमन हुआ था,

कुल 8 सूबेदार नियुक्त हुए,

1. महिपतराव दिनकर – (1787 – 90 )

  • छ.ग. के प्रथम सूबेदार नियुक्त हुए थे,
  • इसके समय में शासन की समस्त शक्तिया बिम्बाजी की विधवा “आनंदी बाई” के हाथो में केन्द्रित थी,
  • सत्ता का संघर्ष प्रारम्भ हो गया था ,
  • इसके शासन काल में ही यूरोपीय यात्री “ फारेस्टर” छ.ग. आये थे,
  • इस यात्री ने सूबा शासन पर प्रकाश डाला था,
  • फारेस्टर – 17/05/1790 ई. दिन सोमवार को रिअपुर पंहुचा था,

2. विट्ठलराव दिनकर (1790  – 96 )

  • छ.ग. के दुसरे सूबेदार थे,
  • इसका शासन काल बहुत महत्वपूर्ण मन जाता है,
  • इसने छ.ग. की राजस्व व्यवस्था में कुछ परिवर्तन किया था,
  • छ.ग. में परगना पध्दति के जन्म दाता है

परगना पध्दति ( 1790 – 1818 ई. ) तक चली है,

  • परगने का प्रमुख कमाविश्दार कहलाता था, इसके अतिरिक्त फड़नवीस, बड़कर आदि नये अधिकारी को नियुक्त किया गया,
  • ग्राम के गोंटिया का पद यथावत बना रहा,
  • इस व्यवस्था के अंतर्गत राजस्व को दो भागो में विभाजित किया गया था, भूमि कर , अतिरिक्त कर ( यह कर बाद में लगा )
  • इसके समय में यूरोपीय यात्री मि. ब्लंट का 13 मई 1795 ई. को रतनपुर में आगमन हुआ था,

3. भवानी कालू –  ( 1796 – 97 )

  • तीसरे सूबेदार थे,
  • इन्होने बहुत कम समय के लिए सुबेदारी की थी,

4. केशव गोविन्द  ( 1797 – 1808 ) 

  • सबसे लम्बे समय तक छ.ग. में सुबेदारी की थी,
  • चौथे सूबेदार थे,
  • इसके समय में यूरोपीय यात्री कोलब्रुक छ.ग. आया था,
  • इसके समय की महत्वपूर्ण घटना – छ.ग. के आसपास पिंडारियो की गतिविधियों का आरम्भ सरगुजा व छोटानागपुर के मध्य सीमा विवाद का उठना आदि,

5.  बीकाजी गोपाल — 

  • पांचवे सूबेदार थे,
  • राजनितिक इतिहास में विशेष महत्त्व का काल रहा था,
  • इस काल में राजनितिक घटना बड़ी तीव्रता के साथ घटित हुई,
  • प्रमुख घटना है –
  • इसके समय में पिंडारियो का छ.ग. में उपद्रव हुआ था,
  • इसी के समय में व्यंकोजी भोंसले की मृत्यु और उनके स्थान पर अप्पाजी को छ.ग. का वायसराय बनाया गया,
  • रघुजी भोंसले (द्वितीय ) की मृत्यु हुई थी, और उसके बाद  अंग्रेजो और मराठो के बिच सहायक संधि हुई थी,
  • परसों जी की आकस्मिक मृत्यु, आदि ने नागपुर के साथ – साथ छ.ग. के राजनीति को बहुत तेजी सा प्रभावित किया,

    वायसराय अप्पासाहब व अन्य सूबेदार –

  • व्यंकोजी के मृत्यु के बाद अप्पासाहब छ.ग. के वायसराय बन गये थे,
  • ये नितांत लोभी व स्वार्थी प्रवृत्ति के थे,
  • छ.ग. के सूबेदारों से अत्याधिक धान की मांग की थी, सूबेदारों की असमर्थता पर उसे पदच्युत कर देते थे,

6. सरकार हरि-

  • 6 वा सूबेदार था,
  • इसका शासन काल अल्प समय के लिए था,

7. सीताराम टांटिया –

  • 7 वा सूबेदार था,
  • इसका शासन काल भी अल्प समय के लिए था,

8.  यादवराव दिवाकर – (1817 – 1818)

  • यह अंतिम सूबेदार था,

Note — इसके बाद 1818 में छ.ग. में ब्रिटिश शासन का प्रारम्भ हो गया, और सूबा पध्दति समाप्त हो गई,

 

3. ब्रिटिश शासन के अधीन मराठा शासन — (1818 – 1830) 

4. छ.ग. में पुनः भोंसला शासन (1830 – 54)

इन्हें भी देखे

 

CGPSC Tyari
Hello , दोस्तों CGPSC Tyari .com में आप सबका स्वागत है, हम अपने उम्मीदवारों को छत्तीसगढ़ एवं इंडिया में होने वाली सभी परीक्षा जैसे :- UPSC, CGPSC, CG Vyapam, CG Police, Railway, SSC और अन्य सभी परीक्षा की तैयारी कैसे और कब करें के बारे मे बताय जाता हैं। छात्र Online Mock Test भी दे सकते हैं। Daily Current Affair, PDF, Paper उपलब्ध कराया जायेगा । आशा, है की आप लोगों को हमरे Post पसंद आये होंगे अपने सुझाव हमें Comment के माध्यम से बताये एवं हमारे Social Plateform से जड़े.

Related Articles

Random Post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Follow

10,000FansLike
5,000FollowersFollow
25,000SubscribersSubscribe

Motivational Line

spot_img

Latest Articles

Popular Post

Important Post